NPCI in Hindi | NPCI क्या है और इसके भाग

परिचय:-

दोस्तों आज के इस दौर में आपने ऑनलाइन ट्रांजेक्शन या डिजिटल ट्रांजेक्शन का नाम तो सुना ही होगा। और इस डिजिटल ट्रांजेक्शन के मामले में तो इंडिया पूरे दुनिया में प्रथम स्थान हासिल किया है। एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले सत्र में भारत दुनिया का सबसे ज्यादा डिजिटल ट्रांजेक्शन यूज करने वाला देश बना है। इस डिजिटल ट्रांजेक्शन को दुनिया में क्रांति लाने के पीछे हमारा भारतीय रिजर्व बैंक है। रिजर्व बैंक के द्वारा एक स्पेशल डिवीजन बनाया गया। जिसका नाम रखा गया एनपीसीआई (NPCI in Hindi) जो की आज के समय में डिजिटल पेमेंट की दुनिया का बादशाह बना बैठा है।

आज के इस पोस्ट में हम एनपीसीआई क्या है और यह कैसे काम करता है। इसके साथ साथ इसके अंतर्गत किन किन सुविधाओं को संचालित किया जाता है। इन सभी बातों को डिस्कस करेंगे।

NPCI क्या है (NPCI in Hindi):-

दोस्तों जैसा की हमने इंट्रो में ही बताया है कि एनपीसीआई एक रिजर्व बैंक के  साथ साथ इंडियन बैंक एसोसिएशन के द्वारा एक स्पेशल डिवीजन बनाया गया है। एनपीसीआई का फुल फॉर्म होता है नेशनल पेमेंट कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया। यह एनपीसीआई पेमेंट एंड सेटलमेंट सिस्टम एक्ट 2007 के अंतर्गत काम करता है। यह एनपीसीआई ऑनलाइन पेमेंट को और ज्यादा रोबस्ट बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

NPCI in Hindi

अगर आप ये सोच रहे हैं कि एनपीसीआई एक नया पेमेंट सिस्टम है तो आप गलत है। क्योंकि एनपीसीआई का गठन 14 वर्ष पहले ही किया जा चुका था। इसका गठन 2008 किया गया था। लेकिन अब इसका भरपूर इस्तेमाल किया जा रहा हैं।

एनपीसीआई का हेडक्वार्टर मुंबई महाराष्ट्र में है। इसमें टोटल 1000 से अधिक employees काम करते हैं। अगर इसके बारे और जनाना है तो आप इसके ऑफिशल वेबसाइट www.npci.org.in पर विजिट कर सकते हैं।

एनपीसीआई एक इंडियन गवर्नमेंट द्वारा non profit organization बनाया गया है। जो companies act 2013 के section 8 के अंतर्गत आता है।

एनपीसीआई प्रमोटर:-

दोस्तों, कोई भी प्रोडक्ट को जबतक आप प्रमोट नही करेंगे तब तक आपका वो प्रोडक्ट लोगों को नजर में नहीं आएगा। और इसी बात को ध्यान में रखते हुए सरकार ने इस सिस्टम को प्रमोट करने के लिए बहुत सारे बैंको को और बहुत सारे प्रोवेट सेक्टर के बेकिंग सिस्टम को उकसाया है। इन प्रमोटर बैंकों में मुख्य रूप से 10 बैंक है। एसबीआई, पीएनबी, केनरा बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, सिटीबैंक और एचएसबीसी है।

इसीलिए आपने देखा होगा की ये सब बैंक UPI या एक शब्द में कहे तो ऑनलाइन पेमेंट को बहुत बड़े स्तर पर प्रमोट करती है।

एनपीसीआई के प्रोडक्ट (Products of NPCI in Hindi):-

एक प्रकार से देखा जाए तो एनपीसीआई आरबीआई का कोई छोटा मोटा डिवीजन नही है। इसके अंतर्गत बहुत सारे पेमेंट संबंधी प्रोडक्ट संचालित किए जाते हैं। इसके अंतर्गत लगभग 10 प्लस अलग अलग पेमेंट मोड के प्रोडक्ट है। जिनके नाम इस प्रकार है। इसमें से आप कुछ नाम तो जानते ही होंगे।

  • आधार एनेबल पेमेंट सिस्टम (AEPS)
  • भारत बिल पेमेंट सिस्टम (Bharat bill payment system)
  • BHIM
  • Immediate payment service
  • Cheque truncation system
  • National automated clearing house
  • National common mobility card
  • National financial switch
  • NUUP Service
  • Query service on aadhar Mapper (*99*99#)
  • RUPAY
  • Unified payment interface (UPI)

Aadhar enable payment system (AEPS):-

एनपीसीआई (NPCI in Hindi) के अंतर्गत यह पेमेंट सिस्टम एक बहुत ही यूनिक पेमेंट सिस्टम है। इसके अंतर्गत किसी भी बैंक से आप आधार कार्ड के जरिए आप पैसे निकाल सकते है। आपने देखा होगा की आप किसी भी सहज जन सेवा केंद्र से आप सिर्फ आधार कार्ड का नंबर बता कर अपना फिंगर प्रिंट वेरिफिकेशन के जरिए आराम से एक छोटा अमाउंट निकाल सकते हैं। आधार कार्ड से पैसा निकालने की सुविधा ही AEPS कहलाता है।

भारत बिल पेमेंट ( Bharat bill payment system):-

जैसा कि नाम से ही आपको लग रहा होगा की यह सिस्टम आपके सभी प्रकार के बिल को पेमेंट करने में मदद करता है। आपको अलग अलग बिल पे करने के लिए कही और जाने की जरूरत नहीं है। आप भारत बिल पेमेंट के एजेंट के पास जाकर किसी भी प्रकार के बिल जैसे बिजली के बिल, एलपीजी बिल, लैंडलाइन बिल, DishTV recharge, pre-paid या postpaid mobile recharge, broadband bill इत्यादि का बिल एक ही जगह भर सकते है।
हालाकि यह सिस्टम भी 9 वर्ष पहले बनाया गया था लेकिन अब जाकर इस सिस्टम की papularty बढ़ रही है।

Bharat interface for money (BHIM):-

आपने phone pe या google pay का नाम तो सुना ही होगा। ऑनलाइन पेमेंट करने के लिए ये सारी ऐप का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे ही भारत के द्वारा एनपीसीआई के अंतर्गत भी एक ऐप बनाया गया जिसके नाम BHIM रखा गया है। यह आप भी ऑनलाइन पेमेंट करने का एक गवर्मेंट app है जो काफी ज्यादा रीलेबल हैं। यह आप UPI based payment support करता है। 

हारकर द्वारा कैशलेस पेमेंट को प्रमोट करने के उद्देश्य से इस एप का निर्माण किया गया हैं। हालाकि इस ऐप का उपयोग उतनी ज्यादा मात्रा में नही किया जाता है। जितना की बाकी के प्राइवेट ऑनलाइन पेमेंट ऐप यूज किए जाते हैं।

Immediate payment service (IMPS):-

अगर आप कोई बैंक ट्रांसफर करने है तो यदि वह बैंक ट्रांसफर किसी सरकारी पेमेंट ऐप से करते है तो आपको ट्रांसफर करने का दो ऑप्शन मिलता है। जिसमे से आपको पहला IMPS mode तथा दूसरा NEFT mode होता है। आईएमपीएस mode एक ऐसा mode है जो मनी ट्रांसफर को immediately send करता है। मतलब की जैसे ही आपने पेमेंट किया वैसे ही आपका पेमेंट, रिसीवर बैंक के खाते में चला जायेगा। IMPS ऑप्शन अगर आप इस्तेमाल करते है तो आपको इसके लिए थोड़ा सा चार्ज देने की जरूरत होती है। जबकि NEFT mode में कोई चार्ज नहीं लगता है।

Cheque truncation system:-

यह एक ऐसा सिस्टम है जो की चेक का इमेज भेज कर आप आसानी से क्लियर करा सकते है। अगर आप  इंडिया पोस्ट पेटेंट बैंक में जाएंगे तो आपको यह ऑप्शन उपलब्ध है। जिसके जरिए आप अपने चेक का फोटो खींच कर उसे अपलोड करने के कुछ दिन लगभग 1-2 दिन के बाद आपका चेक क्लियर हो जायेगा।

National automated clearing house (NACH):-

यह एक ऐसा सिस्टम है जो सभी तरह के बैंक अकाउंट ओं के बीच होने वाले ट्रांजैक्शन का ब्यौरा लेता है तथा उसको रेगुलेट भी करता है। आसान भाषा में कहें तो यह सभी बैंक अकाउंट ओं के बीच होने वाले लो वैल्यू ट्रांजैक्शन तथा उच्च वैल्यू ट्रांजैक्शन को एक माध्यम प्रदान करता है।

नेशनल कॉमन मोबिलिटी कार्ड (National common mobility card):-

यह एक प्रकार का ऐसा सिस्टम है जिसके जरिए आप यात्रा के दौरान, यात्रा शुल्क, टोल टैक्स और रिटेल खरीदारी के समय पर पेमेंट करने में मदद करता है और यह भी एनपीसीआई (NPCI in Hindi) डिवीजन द्वारा संचालित किया जाता है।

RuPay:-

यह भी एनपीसीआई द्वारा संचालित किया जाता है। RuPay  एक मल्टीफंक्शनल फाइनेंसियल सर्विस सिस्टम है। इस सर्विस के द्वारा विभिन्न प्रकार की रुपे कार्ड जैसे क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड प्रदान किए जाते हैं। यह रुपे कार्ड सिर्फ इंडिया में ही नहीं बल्कि यह इंडिया के साथ-साथ इसका मार्केट सिंगापुर, भूटान, मालदीव, सऊदी अरब, यूनाइटेड अरब एमिरेट्स, बहरीन, म्यानमार, साउथ कोरिया तथा नेपाल में भी है।

UPI :-

इस का फुल फॉर्म यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस है। इसे भी एनपीसीआई (NPCI in Hindi) द्वारा डिवेलप किया गया है। यह सिस्टम तीव्र रियल टाइम इंटरबैंक पेमेंट सिस्टम है। जो एक दम करेक्ट टाइम पर पैसे ऑनलाइन भेजने का काम करता है। आजकल सभी प्रकार के ऑनलाइन पेमेंट एप में ट्रांजैक्शन को यूपीआई ही कंप्लीट करता है। यह एनपीसीआई द्वारा डिवेलप किया गया अब तक का सबसे ज्यादा यूज फुल सिस्टम है। जो आज तक पूरी दुनिया में भारत को ऑनलाइन पेमेंट या ट्रांजैक्शन के मामले में प्रथम पर लाया है।

National unified USSD platform:-

अगर आपके पास इंटरनेट की सुविधा नहीं है। और आप साथ ही में फीचर फोन चला रहे हों। भारत सरकार ने फीचर फोन चलाने वालो के लिए भी एक सुविधा लाया है। जिसके जरिए आप ussd कोड रन कराकर अपन पेमेंट कर सकते हैं। इसके लिए आपको *99# डायल करना होगा।

Chandra Mani Vishwakarma
Chandra Mani Vishwakarma

Owner of Hindi Hike : If you want to support me than you can donate me. Thank You..!

Leave a comment